famous fair of sbathu guga madi temple (सबाथू का प्रसिद्ध गुग्गा माड़ी मंदिर और मेला )

 नमस्कार दोस्तों ,

                                   हिमाचल प्रदेश देवी देवताओं का स्थान है | जितने प्रसिद्ध यह के देवी देवता स्थल है उतने ही मशहूर यह के मेले भी है | आज में आपको ऐसे ही एक मंदिर और उसे जुड़े मेले के बारे में बताने जा रही हुं | आज में आपको जिस मंदिर और मेले के बारे में बताने जा रही हु उसकी अपनी एक रोचक कहानी है | यहाँ मंदिर हिमाचल प्रदेश के ज़िला सोलन के सबाथू में  स्थित है | इस मंदिर और मेले की बहुत मान्यता है यह हर साल वार्षिक मेला होता है जो बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है | इस मेले को देखने के लिए लोग दूर दूर से आते है | पहले यह मेले 5 दिन का होता था परन्तु अब इसकी अवधि कम कर दी गई है अब यह मेले 3 दिन का होता है 





सबाथू  का गुग्गा माड़ी मंदिर (Gugga Madi Temple of Sabathu )

इस मंदिर से जुड़ी एक बहुत ही रोचक कहानी है |

                                                        कहा जाता है की करीब कई सालों पहले दो आदमी जो वाल्मीकि परिवार से संबंध रखते थे उन्हें एक रात सपना आया  की एक अदभुत सी शक्ति उन्हें गुग्गा माडी के मंदिर की स्थापना करने के लिए कह रही है | इसके बाद उन लोगो ने मंदिर बनवाने की योजना बनाई | लेकिन उनके सामने सबसे बड़ा सवाल यह उत्पन्न हुआ की आखिर यह मंदिर बनवाया कहा जाऐं | क्योंकि मंदिर बनवाने की जगह तय करना कोई आसान कार्य नहीं था | उस समय गुग्गा जी के एक बहुत ही महान भगत थे जिनका नाम डिंगा था उन्होंने उन्हें एक रास्ता बताया | उन्होंने एक काले बकरे के गले में लाल रंग की डोर बाँध दी और उसे खुला छोड़ दिया | पुरी सबाथू का चक्र लगाने के बाद उस बकरे ने एक जगह आकर अपने घुटने टेक दिए वही पर गुग्गा माड़ी के मंदिर बनवाने का स्थान निश्चित किया गया | 

                                                            कहा जाता है की इस मंदिर की स्थापना के लिए मुख्य तोर पर मिट्टी राजस्थान में बनी श्री गुग्गा माड़ी से लाई गई है और वही से ईट लाकर इस मंदिर की आधारशिला रखी गई है | यह मंदिर देखने में बहुत ही सुंदर है | हर साल हजारों की संख्या में भगत यह माथा टेकने आते है | 

                                                                 



 

  यह से जुडी एक और मान्यता भी है 

                                                 कहते है है की जब से इस मन्दिर की स्थापना की गई है तब से इलाके के लोगो को सांपो  का भी कोई भय नहीं है अब तक कभी भी सांपो के काटने का कोई मामला सामने नहीं आया है | कहा जाता है की यह आने से सर्प दोष भी दूर हो जाता है |  धीरे धीरे इस पवित्र स्थान में लोगो की आस्था बढती जा रही है | गुग्गा माड़ी मुरादो  के लिए भी प्रसिद्ध है  | कहा जाता है की जो भी सच्चे  मन से अपनी मुराद यह लेकर आता है वो ज़रुर पूरी होती है | यह मेला हिन्दू मुस्लिम एकता का प्रतीक है | गुग्गा की छड़ी इसका स्वयं एक उदाहरण है |

                                         हमे  उम्मीद है की हमारे द्वारा दी गई जानकारी आपको अच्छी लगी होगी | यदि आप इसके बारे में और अधिक जानना चाहते हैं या फिर किसी और मंदिर या जगह की जानकारी लेना चाहते है तो कृपया कोमेंट बॉक्स में लिखे यदि  इस आलेख को लिखते हुए हमसे कोई ग़लती हुई हो तो उसके लिए हमे क्षमा करे और हमे कोमेंट करके ज़रुर बताऐ ताकि हम आपको अपने आने वाले आलेख में एक बहेतरिन सुधर के साथ आपको अच्छी जानकारी उपलब्ध कराए |

                                                                                   धन्यवाद 

                                  

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

महामाया मंदिर