Brijeshwar Mahadev Temple (ब्रिजेश्वर महादेव मंदिर )

 नमस्कार दोस्तों,

                                   आज मे फिर आपके लिए एक नया ब्लॉग लेकर आई हुं | आज में आपको एक ऐसे मंदिर के बारे में बताने जा रही हुं जिसके बारे मे बहुत कम लोग जानते है | आज में जिस मंदिर की बात कर रही हुं उस मंदिर का नाम है ब्रिजेश्वर महादेव का मंदिर | यह मंदिर हिमाचल प्रदेश के सोलन जिले के द्योथल नामक जगह पर स्थित है |यह मंदिर एक नदी के किनारे पर स्थित है | ब्रिजेश्वर महादेव जी सोलन, सिरमौर और शिमला  में रहने वाले कई ग्राम वासियों के अराध्य  देवता भी है |इन्हे करयाला का देवता और ध्याने का देवता भी कहा जाता है | ब्रिजेश्वर का एक अर्थ बिजली का देवता भी है 




इस मंदिर से जुड़ी कुछ कथाए और  मान्यताये है 

                                                इस मंदिर के इतिहास से जुडी कोई भी कहानी लिखित रुप मे नहीं मिलती इस मंदिर से जुड़ी कुछ दंत कथाए है इस कथा के अनुसार कुठाड और आस पास के  क्षेत्र में एक स्थानीय राजा का बहुत अत्याचार बढ़ गया था | उसके अत्याचार  से तंग आकर वह के लोगो ने काशी कश्मीर से इस देवता को अपने क्षेत्र में अपने और अपने स्थान को सुरक्षित करने के लिए इस वीर पुरुष को  निमंत्रित किया सभी ने  ब्रिजेश्वर महादेव का आहवान किया ओर सब के आह्वान पर ब्रिजेश्वर देव जलाशय से यानि पानी की एक छोटी सी बावरी ( डाबरी ) से  प्रकट हुए ओर उन्होंने उस दुष्ट राजा से युद्ध करने के लिए अपनी शक्तियों का प्रयोग किया जिसके फलस्वरूप महाभयानक युद्ध हुआ अंत में इन्होंने अपने साथ देवता पढ्यार ( जो इनके मुख्यमंत्री है ) नवदुर्गा माता और चोसठ योगनीयों के साथ मिलकर आकाश में बिजली का एक गोला बनाया जिसके फलस्वरूप सारी  धरती कांप गई भूत प्रेत राक्षस का अंत हो गया बिजली के अचूक वार से राजा भी रणभूमि छोड़ने के लिए विवश हो गया और वह रणभूमि छोड़ कर भाग गया  | तभी से उस महापुरुष को ब्रिजेश्वर के नाम से जाना गया | तब से ब्रिजेश्वर महादेव को यह पर उन्होंने अपने आराघ्य देव के  रूप में पूजना शुरू किया | इस मंदिर की यह मान्यता है की जो भी कोई सच्चे मन से देवता की स्तुति करता है उसकी हर इच्छा देव पूरी करता है | जब गाँव में  कोई भी फसल पक कर  तैयार होती  है तो उसका सबसे पहला भाग किसान देवता के नाम पर रख कर मंदिर में चढावा चढाने आते है

                                         



                                           यह एक बहुत ही सुंदर और भव्य मंदिर है इतवार के दिन यह पर  काफी भीड़ होती है लोग दूर दूर से ब्रिजेश्वर महादेव के दर्शन करने आते है | यह आकर आपको अदभुत सी शांति और ख़ुशी का अनुभव होगा | हर इतवार  के दिन यह एक विशाल भंडारा भी लगाया जाता है | परन्तु करोना काल में यह भंडारा थोड़े समय के लिए बंद कर दिया गया है | साथ में ही यह एक नदी है जो आकर्षण का केंद्र है लोग अपने परिवार के साथ इस नदी के किनारे समय बिताने आते है | और साथ ब्रिजेश्वर महादेव के दर्शन भी करते है |

                                

यहाँ तक पहुचने का रास्ता 

                               यहा पर आप बस से अपने निजी वाहन से आ सकते है यह मंदिर सोलन जिले से लगभग 17 किलोमीटर दूर गम्बरपुल नामक जगह पर स्थित है | जब भी आप हिमाचल आए ब्रिजेश्वर महादेव के दर्शन करने यह ज़रुर जाए |

                                                                जय ब्रिजेश्वर महादेव 

                       हमे  उम्मीद है की हमारे द्वारा दी गई जानकारी आपको अच्छी लगी | यह जानकारी हमने कुछ इंटरनेट से और कुछ मंदिर के पुजारी और वह के स्थानीय निवासियों से एकत्रित की है यदि आप इसके बारे में और अधिक जानना चाहते हैं या फिर किसी और मंदिर या जगह की जानकारी लेना चाहते है तो कृपया कोमेंट बॉक्स में लिखे यदि  इस आलेख को लिखते हुए हमसे कोई ग़लती हुई हो तो उसके लिए हमे क्षमा करे और हमे कोमेंट करके ज़रुर बताऐ ताकि हम आपको अपने आने वाले आलेख में एक बहेतरिन सुधार के साथ आपको अच्छी जानकारी उपलब्ध कराए |

                                                                                   धन्यवाद 

                                  

एक टिप्पणी भेजें

1 टिप्पणियाँ

एक ऐसी जगह जहा आज भी छुपा हुआ है अरबो का खजाना